alauddin khilji in hindi.

alauddin khilji in hindi.


अलाउद्दीन खिलजी का जीवन परिचय

अलाउद्दीन खिलजी सुल्तान जलालुद्दीन का भतीजा था अलाउद्दीन का जन्म1266 -67 में हुआ था अलाउद्दीन शिक्षित ना था किंतु सैनिक गुणों से वह परिपूर्ण था|


alauddin khilji in hindi.

सुल्तान जलालुद्दीन ने अपनी पुत्री का विवाह अलाउद्दीन से किया था|

1260 ईस्वी में जलालुद्दीन के शासक बनने के पश्चातअलाउद्दीन को अमीर ए तूजक पद प्राप्त हो गया बाद में कड़ा मानिकपुर के  सूबेदार मालिक छज्जू द्वारा विद्रोह किए जाने पर सुल्तान ने अलाउद्दीन को कड़ा मानिकपुर का सूबेदार नियुक्त कर दिया| अलाउद्दीन अत्यंत पराक्रमी एवं महत्त्वकांछीव्यक्ति था|अतःकड़ा मानिकपुर का सूबेदार बनने के पश्चातउसने अपनी शक्ति को बढ़ाने का प्रयास किया वह भी जलालुद्दीन की तरह सुल्तान बनने का सपना देखने लगा|

उसे अपनी शक्ति बढ़ाने के लिए धन की आवश्यकता थी इस हेतु उसने 1292 ईस्वी में मालवा तथा भिलसा के दुर्ग पर आक्रमण कर अपार धन-संपत्ति लूट ली|


1294 ईस्वी में उसने देवगिरी पर आक्रमण किया देवगिरी के राजा रामचंद्र देव ने साहस पूर्वक अलाउद्दीन का सामना किया किंतु अलाउद्दीन से संधि करने के लिए अंतत है उसे विवश होना पड़ा|



देवगिरी पर विजय से अलाउद्दीन को अपार धन संपत्ति प्राप्त हुई इस विजय से अलाउद्दीन की महत्त्वकक्षाएं और प्रबल हो गईतथा वह शीघ्र सुल्तान बनने का प्रयत्न करने लगा|उसने अपने चाचा जलालुद्दीन को धोखे से जाल मे  फसाकर कड़ा मानिकपुर के निकट19 जुलाई 1926 ईस्वी को कत्ल करवा दिया और मुकुट धारण कर लिया|



alauddin khilji in hindi.
Life style- alauddin khilji in hindi.


अलाउद्दीन खिलजी की प्रारंभिक कठिनाइयां



अलाउद्दीन सिंहासन का वैधउत्तराधिकारी नहीं था उस समय स्थिति शांति तथा सुव्यवस्था कि नहीं थी इसलिए जब उसने अपने चाचा को मारकर सिंहासन पर अधिकार किया तो उसे निम्नलिखित समस्याओं का सामना करना पड़ा|


1. अलाउद्दीन के सामने सबसे बड़ी समस्या जलालुद्दीन के उत्तराधिकारी थे जो कि सिंहासन प्राप्त करना चाहते थे|


2.अलाउद्दीन को जलाली अमीरों तथा सरदारों के विरोध का भी सामना करना पड़ा|



3.उस समय भारत की राजनीतिक दशा भी अत्यंत सोचनीय थी|



4.अलाउद्दीन को जनता तथा अमीरों के विरोध का सामना करना पड़ा क्योंकि उनकी निगाह में अलाउद्दीन एक हत्यारा था|


अलाउद्दीन के सैनिक तथा सामाजिक सुधार




सैनिक सुधार -

1.दाग तथा हुलिया प्रथा - अलाउद्दीन ने सेना के दाग तथा होलिया के नियम आरंभ कर दिए दाग के अनुसार प्रत्येक सरकारी घोड़े को दाग आ जाता था तथा हुलिया के अनुसार प्रत्येक सैनिक का हुलिया दर्ज होता था|



alauddin khilji in hindi.
fort- alauddin khilji in hindi.

2. युवक सैनिक - अलाउद्दीन ने सभी दुर्बल तथा वृद्ध सैनिकों को निकाल दिया एवं अपनी सेना में युवा व्यक्तियों को नियुक्त किया|


alauddin khilji in hindi.
alauddin khilji in hindi.

 सामाजिक सुधार -

1.जुआ खेलने पर रोक -अलाउद्दीन ने जुआ खेलने पर रोक लगा दी यदि कोई जुआ खेलता पकड़ा जाता था तो उसे कुएं में फेंक दिया जाता था|



2.शराब पर रोक - अलाउद्दीन शराब बेचने व पीने वालों के लिए गंदे कुआं में फेंकने का दंड निश्चय किया उसने स्वयं भी शराब पीना बंद कर दी|


    खिलजी की आर्थिक सुधार नीति


अलाउद्दीन एक निरंकुश शासक था उसने शासन को शांतिमय बनाने के लिए प्रशासन में अनेक सुधार किया वह एक राजनीतिक अर्थशास्त्री था जब वह सुल्तान बना उस समय राज्य की दशा खराब थी देश में आंतरिक विद्रोह हो रहे थे ऐसे युग में निरंकुश शासक की जरूरत थी सेना की शक्ति के बल पर राज्य किया जा सकता था और बाहरी आक्रमणों को भी कम किया जा सकता था|



मंगोलो से रक्षा के लिए विशाल सेना आवश्यक थीआर्थिक दशा को सुधारने के लिए आर्थिक सुधार जरूरी थी इसी के कारण इतिहास में अलाउद्दीन कुशल अर्थशास्त्री कहा जाता है उसने अन्य प्रकार से भी धन एकत्र किया|



1.व्यक्तिगत धन का हरण -

अलाउद्दीन ने व्यक्तिगत संपत्ति पर नजर डाली और सारी व्यक्तिगत संपत्ति को राजकोष में जमा कराया वह समझता था कि यह सारी संपत्ति राज्य की है अतः उस पर उसका पूर्ण अधिकार है उसने खत मुकदम चौधरियों की संपत्ति छीन ली जनता के पास धन की कमी हो गई|


2.सामंतों की भूमिका हरण - 

सुल्तानों ने एकताओं का विभाजन अपने सामंतों में किया था बरनी से पता चलता है कि राज्य को अपनी प्रजा से कर या कर से अधिक धन लेने का अधिकार था कर लगाने के अधिकार में दुर्ग बनाने और सुसज्जित से ना रखने का भी अधिकार था अनेकों राज्यों का कर्तव्य था कि वे केंद्रीय शासक की मदद करें परंतु वे ऐसा नहीं करते थे राज्य और रावतों की अपनी न्याय व्यवस्था भी थी



alauddin khilji in hindi.
alauddin khilji in hindi.

3.हिंदुओं को निर्धन बनाना -

अलाउद्दीन ने हिंदुओं की संपत्ति को लेकर उनको गरीब बनाया उसने उस पर भिन्न-भिन्न प्रकार की कर लगाएं जिससे अमीर हिंदू डर गए और पूर्ण रूप से कुचल डाले गए सुल्तान ने 50% कर के रूप में लिया



4.भूमि कर - 

अलाउद्दीन संपूर्ण जमीन की पैमाइश कराई नई राजस्व प्रणाली का संगठन वास्तविक समस्या थी उस समय शरफ कायनी साम्राज्य का राज्य मंत्री था उसमें विशिष्ट ज्ञान सूझबूझ और कार्य कौशल था वह वार्तालाप और जांच पड़ताल करने में अच्छा था भूमि की उपज के आधार पर कर तय किया |


Thank you for reading the alauddin khilji in hindi.

No comments:

Post a Comment