KHELO ME MAHILA SHASHAKTIKARAN, खेलों में महिला सशक्तिकरण, A PROJECT REPORT ON INDIAN'S WOMAN CONTRIBUTION IN SPORTS



खेलों में महिला सशक्तिकरण


                                                      
उन्‍नीसवीं सदी के मध्‍यकाल से लेकर इक्‍कीसवीं सदी तक आतेआते पुन: महिलाओं की स्थिति में सुधार हुआ और-महिलाओं ने शैक्षिक राजनीतिक, सामाजिक आ‍र्थिक धार्मिक प्रशासनिक खेलकूद आदि विविध क्षेत्रों में उपलब्धियों के नए आयाम तय किये। आज महिलाए आत्‍मनिर्भर स्‍वनिर्मित आत्‍मविश्‍वासी हैं जिसने पुरूष प्रधान चुनौती पूर्ण क्षेत्रों में भी अपनी योग्‍यता प्रदर्शित की है। वह केवल शिक्षिका नर्स स्‍त्री रोग की डाक्‍टर न बनकर इंजीनियर पायलट वैज्ञानिक तकनीशियन सेना पत्रकारिता जैसे नए क्षेत्रों को अपना रहीं है। खेल जगत में पी.टी. ऊषा. अजूं बाबी जार्ज साईना नेहवाल सानिया मिर्जा अंजू चोपड़ा, मिताली राज आदि ने नए कीर्तिमान स्‍थापित किये है। आइपीएस किरण बेदी, अंतरिक्ष यात्री सुनिता विलियम्‍स आदि ने उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करके विविध क्षेत्रों में अपने बुद्धि कौशल का परिचय दिया है।

परिचय:

अगर हम थोड़े व्‍यापक ढ़ग से बात करते है तो सबसे पहले शिक्षा के क्षेत्र में रोजगार और व्‍यवसाय के क्षेत्र में और अब पुरूषों के सम्‍पूर्ण वर्चस्‍व वाले क्षेत्र जिसमें औरतों के भविष्‍य के बारे में सोचना भी मुश्किल था। उस खेल के क्षेत्र में महिलाओं ने जो स्‍थान बनाया है उसमें हमारे देश की आधी आबादी को सम्‍मान के साथ गर्व की भी अधिकारी बना दिया है, पर कभी-कभी मन में एक बात आती है कि आखिर कैसा होता होगा उस पर परिवार का माहौल जहॉ भ्रूण हत्‍या को अंजाम दिया गया होगा क्‍या वह लोग आपस में नजर मिला पाते होगें क्‍या देश की बेटी की जीत से उनका सीना चौड़ा होता होगा। या ऐसे मौके पर जब देश जश्‍न मनाता है वे अंधेरे बंद कमरे में अपने बेटों के साथ भविष्‍य की कोरी कल्‍पनाएं बुनते होगे, खैर हम ऐसे लोगों को उनके अधेरें कमरे में बन्‍द उज्‍जवल सपनों के साथ छोड़कर आगे बढ़ते है, तो कौन कहता है भारत अपनी बेटियों से प्‍यार नहीं करता जब भी भारत का कोई खिलाड़ी ओलम्पिक पदक जीतता है तो हर भारतीय खुश होता है, लेकिन जब वह पदक जीतने वाला खिलाड़ी कोई महिला होती है तो खुशी की सिमाएं ही समाप्‍त हो जाती है। इस बात में रत्‍ती भर भी संदेह नहीं है, किन्‍तु अब उनके पास कुछ नहीं बल्कि बहुतायत में कुछ करने के लिए नए रास्‍ते उपलब्‍ध हैं। भारत में हर महिला खिलाड़ी का सम्‍मान किया है चाहे वह जीती हो न जीती हो या जीत के करीब पहुच कर लौटी हो ......सबसे पहले 1988 में भारत की एथीलीट पीटी ऊषा ने अपनी प्रतिभा से सबका दिल जीत लिया था . वे 1980 में ओलम्पिक में फाइनल तक पहुचने वाली पहली भारतीय महिला बनी फिर क्‍या था हर कोई पीटी ऊषा का ही उदाहरण पेश करने लगा था, कुछ ऐसा ही 2016 के ओलम्पिक में जिमनास्टिक्‍स में दीपा कर्मकार ने किया है। वह भले ही चौथे नंबर पर रही लेकिन भारत के लोगों ने उन्‍हें वह जगह दी है जो ओलम्पिक में गोल्‍ड जीतने के बाद मिलती है.....ओलम्पिक में पहली बार भाग ले रही भारत की युवा महिला गोल्‍फर आदिति आशोक ने भी अपने खेल से सबका ध्‍यान खींचा।

सच कहता हूँ इस तरह की खबरें सिर्फ एक महिला को ही नहीं पुरूषों को भी रोमांचित करती है, देश के हर गॉव हर कस्‍बे और हर शहर में लोग अपने घर की बेटी को बड़ी उम्‍मीदों से देखने लगते हैं। और इसका श्रेय जाता है उन तमाम एथिलीट्स को जिन्‍होंने ओलम्पिक जैसे विश्‍व स्‍तर के खेल आयोजन में न सिर्फ भाग लिया बल्कि अपने देश के लिए पदक भी जीता. ओलम्पिक की शुरूआत के बाद कई दिन बीत जाने के बाद भी जब भारत की झोली में एक भी पदक नहीं आया जबकि जिनसे उम्‍मीद थी ओ सारे खिलाड़ी नाकामयाब रहे तो कुछ श्रेष्‍ठ खिलाड़ी भी बारिक अन्‍तर से चूक गये थे। ऐसे में अप्रत्‍याशित तरिके से भारत के लिए पदक कमाया महिला खिलाडि़यों नें.जी हा महिला कुश्‍ती मे साक्षी मलिक और बैडमिटंन में पीवी सिधु ने हमारी लाज जैसे तैसे बचा ली इनके पदक हासिल करने के बाद एकाध दिनों में भी भारतीय उम्‍मीदे फुस्‍स ही रही और सवासौ करोड़ आबादी की इज्‍जत उन्‍हीं महिलाओं बचाई जिसका विभिन्‍न स्‍तर पर अपमान होता ही रहता है।

आती है हर बार जब ऐसे खेल के आयोजन समाप्‍त होते है तो समीक्षा के रूप में एक बात निकल के सामने की हमारे देश में खिलाडि़यों को उचित सुविधाऐं नहीं मिलती जिससे उनका प्रदर्शन बेहतर नहीं पाता कुछ हद तक ये बात सही भी हो सकती है लेकिन साथ ही एक बात और सोचने वाली है कि इन बदहाल सुविधाओं में महिला खिलाडि़यों क्‍या स्थिति होती होगी। उन्‍हें तो और कम संसाधन उपलब्‍ध होते होगें। तो दूसरी समस्‍याओं से भी उन्‍हें दो चार होना पड़ता है। मसलन घर परिवार से लेकिर समाज का विरोध हमारे देश में महिला असुरक्षा का माहौल बेटियों पर बेटों के मुकाबलें कम खर्च करने कि बुरी परम्‍परा इत्‍यादि लेकिन अपने कुछ कर गुजरने चाहत के आगे इन महिलाओं ने बाधाओं को आड़े नहीं आने दिया, कहते हैं कि क्षेत्र कोई भी सफल होने के लिये अनुशासन के साथ कड़ी मेहनत की जरुरत होती है। क्‍योंकि सफलता का कोई सार्टकट नहीं होता है। साक्षी मलिक जहॅा बचपन से ही कुश्‍ती लड़ रही है वही पीवी सिंधु दर्जनों किलोमीटर का सफर तय करके ट्रेनिंग लेने जाती थी। दुनिया से टकाराकर जिस तरह का जीवन इन युवतियों ने दिखलाया है देश उससे देश की हर महिला हर नारी को प्रेरणा लेनी चाहिए इस बात ने कोई शक नहीं कि अगर नारियॉ चाह ले तो समाज की सोच बदलने में ज्‍यादा वक्‍त नहीं लगेगा।
 सही मायने में यह बेटियॉ भारत की महिलाओं के लिए प्रेरणा है साथ ही साथ यह उन मॉ और पिताओं के लिए प्रेरणादायी है जो बेटी के जन्‍म से दुखी हो जाते है हालाकि सबकुछ होने के बावजूद इन महिलाओं का आत्‍मविश्‍वास ही इन्‍हें शिखर तक पहुचाने में सहायक रहा है। और अगर आगे भी महिलाए बढ़ी तो उनका आत्‍मविश्‍वास कठोर परिश्रम जैसे तत्‍व ही मायने रखेगे।
हॉ अगर सरकार के साथ समाज भी उनकी ठोस मदद करने का संकल्‍प व्‍यक्‍त करे उनकी राह कुछ आसान जरूर हो जाएगी। किन्‍तु राह आसान हो या कठिन नारी शक्ति ने हर रास्‍ते पर खुद को साबित कर दिखलाया है और यह क्रम निश्चित रूप से आगे जारी रहेगा। हर क्षेत्र मे ठोस उपलब्धियों के साथ जहॉ तक बात ओलम्पिक की है तो भारतीय महिलाओं कि ओलम्पिक सफलता का रहस्‍य आगे बढ़ने कि उनकी लगन व कठिन मेहनत है तो उसका प्रेरक महत्‍व आने वाले भविष्‍य में बेहद सटिक साबित होगा इस बात में दो राय नहीं है।


एक नजर में कुछ भारतीय महिला खिलाड़ी

साइना नेहवाल

 भारत की शटल गर्ल साइना नेहवाल ने 2014 में तीन अन्‍ताराष्‍ट्रीय खिताब चाइना ओपन इण्डियन ओपन ग्रैण्‍ड पीक्‍स गोल्‍ड और आस्‍ट्रेलियन ओपन सुपर सीरिज जीतने में कामयाबी हासिल की। उबेर कप को बैडमिटंन का प्रतिष्‍ठत टूर्नामेंट माना जाता है। और उसमें भारतीय टीम कास्‍य पदक जीतने मे कामयाब रही साइना भी इस टीम का हिस्‍सा थी।
साइना नेहवाल ने पूरे देश में बैटमिंटन के खेल को लोक प्रिय बनाने में महती भूमिका निभाई वे अब युवा प्रतिभावों के लिये रोल माडल बन चुकी है। साइना ने अपने अन्‍ताराष्‍ट्रीय कामयाबीयों में भी चौथी पायदान हासिल की हालांकि यह बोलना बेईमानी ही होगा कि 2 दिसंबर 2010 और 20 जुलाई 2013 को साइना दुनिया की नंबर 2 खिलाड़ी बनने का रूतबा भी हासिल कर चुकी है। पीवी सिंधु हैदराबाद की स्‍टार बैटमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल जहॉ भारतीय महिला बैडमिंटन की चुनौती बनकर पूरी दुनिया में छा गई उसी तरह पीवी सिंधु भी ने लगातार कामयाबी हासिल करके नई आशा कि किरण जगा दी। 19 वर्ष की सिंधु देश की ऐसी पहली महिला खिलाड़ी बन गई जिन्‍होंने विश्‍व बैडमिंटन चैमिप्‍यन शिप में लगातार दो पदक हासिल किए है। 2013 और 2014 की विश्‍व बैडमिंटन प्रतियोगिता में सिंधु ने कास्‍य पदक जीतकर देश का नाम रोशन किया यही नहीं इंचियोन एशियाई खेलों की टीम स्‍पर्धा में जब भारत ने कांस्‍य पदक जीता तब भी सिंधु भारतीय टीम का हिस्‍सा थी।
एमसी मैरीकाम साइना और सिंधु के बाद यदि किसी तीसरी महिला खिलाड़ी का ख्‍याल जहन में आता है तो वह एमसी मैरीकॉम ही है। जिन्‍होंने अपनी उम्र को कभी अपने उपर हावी नहीं होने दिया भारत में महिलाए बाल बच्‍चे होने के बाद खेल से सन्‍यास ले लेती हैं। लेकिन मेरीकॉम उनमे से शुमार नहीं हुई। भारतीय महिला बॉक्सिगं का आइकन बन चुकी मैरीकॉम ने 3 बच्‍चों की मा बनने के बाद भी मुक्‍केबाजी के रिंग में जो पंच बरसाए वह दीगर महिलाओं के लिए एक मिसाल बन चुके हैं। 5 बार की विश्‍व चैंपियन मैरीकॉम ने छठी विश्‍व मुक्‍केबाजी चैंमिपयनशिप में भी पदक जीतने का गौरव हासिल किया। ग्‍वांगझू एशियाड में जब मैरीकॉम ने कांस्‍य पदक जीता था तब लगा था कि वे अगले एशियाड में नहीं उतरेगी लेकिन 2014 के इंचियोन एशियाड में उन्‍होंने स्‍वर्ण पदक जीतकर पूरे एशियाई जगत में यह साबित कर दिखाया कि उनकी बाजुओं में अभी भी फौलाद भरा हुआ है।


मैरीकॉम

 की इसी अटूट खेलभावनाने बॉलीवुड को भी आकर्षित कर डाला और उनके जीवन पर फिल्‍म मैरीकॉम बनी जिसमें मैरीकॉम का किरदार प्रियंका चोपड़ा ने बखूबी निभाया। सानिया मिर्जा पाकिस्‍तानी क्रिकेटर शोएब मलिक की बीवी बनने के बाद भी सानिया मिर्जा ने टेनिस का दामन नहीं छोड़ा और वे अभी भी कामयाबियों की नई मंजिले तय करती जा रही है। 2014 का साल भी सानिया के लिए बेहद खास रहा। उन्‍होंने अपने टेनिस करियर का तीसरा ग्रैंड स्‍लैम खिताब (मिश्रित युगल) जीता। 2009 में आस्‍ट्रेलियन ओपन और 2012 में फ्रेंच ओपन के बाद 2014 में सानिया ने अमेरिकी ओपन में ब्रूनो सोयर्स के साथ मिश्रित युगल खिताब जीतने में सफलता पाई। यही नहीं सानिया डब्‍ल्‍यूटीए टूर फाइनल्‍स जीतने वाली देश की पहली महिला टेनिस खिलाड़ी भी है। यह कामयाबी उन्‍होंने कारा ब्‍लैक को साथ लेकर हासिल की ।
भारत की यह टेनिस सनसनी अंतरराष्‍ट्रीय टेनिस स्‍पर्धाओं की खातिर पहले इंचियोन एशियाई खेलों में हिस्‍सा नहीं ले रही थी लेकिन जब प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी से उनकी दिल्‍ली में मुलाकात हुई तब जाकर देश की खातिर उन्‍होंन अपना इरादा बदल दिया। एशियाड में सानिया के साकेत सायेनी के साथ मिश्रित युगल में जोड़ी बनाई और अपना गला सोने के पदक से सजाया। महिला युगल में भी सानिया मिर्जा के खाते में कांस्‍य पदक आया।


सरिता देवी:

2014 में जहां एक ओर एशियाई खेलों में भारतीय कामयाबी की नई इबारत लिखी गई वहीं एक खराब प्रसंग ने नए विवाद को जन्‍म दे दिया।यह विवाद था एल. सरिता देवी का। सरिता को जब लाइटवेट भार वर्ग के सेमिफाइनल मुकाबले में मेजबान कोरियाई मुक्‍केबाज के खिलाफ परास्‍त घोषित किया गया तो वे रिंग में ही रो पड़ी और कास्‍य पदक भी लौटा दिया।
एशियाई खुद सरिता ने भी बाद में व्‍यावहार के लिए माफी मांग ली थी। सरिता पर ज्‍यादा सख्‍त कार्यवाही न हो इसके लिए सचिन तेंदुलकर तक केंन्‍द्रीय खेल मत्री से मिले सरिता का विवाद लंबा चला।
सीमा अंतिल: भारतीय एथलेटिक्‍स जगत में कृष्‍णा पुनिया के बाद कोई नाम उभरा है तो वह नाम सीमा अंतिल का है। हरियाणा की इस एथलीट ने डोपिंग के कड़वे सच का सामना करने के बाद खुद को उभारा। यह एक संयोग ही है कि सोनीपत में जन्‍म लेने वाली सीमा का विवाह भी पुनिया परिवार में ही हुआ है। उन्‍होंने अंकुश पुनिया से विवाह किया जो उनके कोच थे।
आज 14 बरस  पहले भारतीय एथलेटिक्‍स सीमा ने तब नाम कमाया था जब वे 17 बरस की उम्र में विश्‍व जूनियर चैंम्पियनशिप में स्‍वर्ण पदक जीतने में सफल रही थी। राष्‍ट्रीय कीर्तिमान धारी 6 फीट ऊंची सीमा ने 2006 राष्‍ट्रमंडल खेलों में चक्‍काफेंक प्रतियोगिता में भारत के लिए चांदी का तमगा जीता। 2010 के दिल्‍ली राष्‍ट्रमंडल खेलों में उन्‍होंने कांस्‍य पदक जीता।
सीमा की कामयाबी यहीं नहीं थमी अलबत्‍ता 2014 में इंचियोन एशियाड में उन्‍होंने सोने के पदक को अपने गले में पहना। सीमा चक्‍का फेंक के अलावा भारत की 4 गुना 400 मीटर रेस में भी उतरी और उन्‍होंने मंदीप कौर पूवम्‍मा माचेटीरा टिंटू लुका और प्रियंका पंवार के साथ देश को सोना दिलवाया।


दीपिका पल्‍लीकल:

 भारत की महिला स्‍कॉश खिलाडि़यों में नंबर एक पर दीपिका पल्‍लीकल का नाम शुमार होता है। 2014 का साल दीपिका के लिए नई खुशियों की सौगात लेकर आया। उन्‍होंने ग्‍लास्‍गो राष्‍ट्रमंडल खेलों में जोशना चिनप्‍पा के साथ जोड़ी बनाई और भारत को स्‍वर्ण पदक दिलवाया। यह पहला प्रसंग था जबकि राष्‍ट्रमंडल खेलों की महिला युगल में भारत ने कोई पदक जीता हो। यही नहीं राष्‍ट्रमंडल खेलों के इतिहास में  स्‍कॉश में भारत को यह पहला पदक था।
पद्मश्री से सम्‍मानित दीपिका पल्‍लीकल ने इंचियोन एशियाई खेलों में जानदार प्रदर्शन किया और एकल मुकाबलों के सेमीफाइनल में पहुँच कर कांस्‍य पदक अपने गले में पहना। इस तरह एशियाई खेलों की स्‍कॉश प्रतियोगिता में भी दीपिका पदक जीतने वाली देश की पहली खिलाड़ी बन गई। दीपिका के शानदार प्रदर्शन का ही नतीजा रहा कि वे आज से 4 साल पहले दुनिया की टॉप 10 खिलाडि़यों में जगह बनाने में कामयाब हुई थीं।
वीनेश फोगाट: कुश्‍ती में सिर्फ भारतीय पुरूष पहलवान ही कामयाबी हासिल नहीं कर रहे है बल्कि महिला पहलवानों ने भी देश का नाम ऊचा किया है। भारतीय महिलाओं ने अपनी कुश्‍ती कला का शानदार प्रदर्शन करते हुए राष्‍ट्रमंडल खेलों में 2 स्‍वर्ण 3 रजत और 1 कांस्‍य पदक जीता। एशियाई खेलों में भी भारतीय पहलवान खाली हाथ नहीं लौटी और उन्‍होंने भी 2 कांस्‍य पदक जीते। ग्‍लास्‍गो राष्‍ट्रमंडल में वीनेश फोगाट का जलवा दिखाई दिया जब उन्‍होंने 48 किलोग्राम फ्रीस्‍टाइल भार वर्ग में अपना गला सोने के पदक से सजाया। वीनेश ने एशियाई खेलों में भी कांस्‍य पदक जीतने में सफलता हासिल की।


वीनेश-

 के पदचिन्‍हों पर चलकर गीतिका जाखड़ ने भी राष्‍ट्रमंडल खेलों में 63 किलोग्राम वर्ग में रजत और एशियाई खेलों में कांस्‍य पदक जीता। वीनेश और गीतिका के अलावा भारत की तीसरी पहलवान बबीता कुमारी भी ग्‍लास्‍को राष्‍ट्रमंडल खेलों में भारत की झोली में सोने का पदक डालने में कामयाब हुई।

दीपा कर्माकर: जिम्‍नास्टिक में भी भारत अब  अपनी दखल रखने लगा है और इसमें दीपिका कर्माकर का नाम शीर्ष पर है। दीपिका देश की ऐसी पहली महिला जिम्‍नास्‍ट बन गई है जिन्‍होंने ग्‍लास्‍गो राष्‍ट्रमंडल में भारत के लिए जिम्‍नास्टिक का दूसरा पदक जीता। इससे पहले 2010 में आशीष ने भारत के लिए पदक जीता था। महिलाओं की वोल्‍ट स्‍पर्धा 20 साल की दीपा ने 14366 अंक अर्जित करके कासे का पदक जीता।वे देश की पहली महिला जिम्‍नास्‍ट बन गई हैं जिन्‍होंने राष्‍ट्रमंडल में कोई पदक जीता हो। 
                                           
                                    



तानिया सचदेव-
तानिया सचदेव ने 8 साल की उम्र में अंतराष्‍ट्रीय प्रतियोगिता जीतकर  कीर्तिमान स्‍थापित किया था। तानिया सचदेव ने रिकॉर्ड तेजी से महज 9 गेम में 65 प्‍वाइंट लेकर एशियन चेस चैंपियनशिप पर कब्‍जा जमाकर पूरी दुनिया को चौंका दिया था। तानिया 2009 में अर्जुन अवार्ड भी जीत चुकी हैं। तानिया सचदेव ने राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍ट्रीय प्रतियोगिताओं में मेडल जीते हैं। तानिया ने 2005 में महिला ग्रैंडमास्‍टर का तमगा हासिल किया तो 2008 में अंतर्राष्‍ट्रीय ग्रैंडमास्‍टर बन गईं।
शर्मिला निकोलेट
इंडो-फ्रैंच मूल की शर्मिला की मां बेंगलूरू की और पिता फ्रांस के हैं। शर्मिला ने बैंगलूरू में ही जन्‍म लिया और शुरू से खेलों में सक्रिय रहीं। शर्मिला निकोलेट सब-जूनियर तैराकी चैंपियन रह चुकी हैं। तैराकी में शर्मिला के नाम 72 गोल्‍ड मेडल हैं। शर्मिला ने 11 साल की उम्र से गोल्‍फ में दिलचस्‍पी लेनी शुरू की और देश-विदेश स्‍तर पर तमाम बड़े टूर्नामेंट जीते। शर्मिला ने गोल्‍फ में साल 2011 में हीरो होंडा इंडिया वुमेन चैंपियनशिप जीता और लगातार लाइम-लाइट में बनीं रही हैं।

अश्विनी पोनप्‍पा
अश्‍वनी पोनप्‍पा एक भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। 27 साल की इस खिलाड़ी ने राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर नाम कमाया है। वे ज्‍वाला गुट्टा के साथ राष्‍ट्रमंडल खेलों में स्‍वर्ण पदक जीत चुकी है और विश्‍व चैम्पियनशिप में कांस्‍य पदक जीतकर इतिहास रचा था। वह अपने शर्मीली आंखो और प्‍यार भरी मुस्‍कान के लिये जानी जाती है। 


ज्‍वाला गुट्टा
प्रोफेशनल बैडमिंटन प्‍लेयर ज्‍वाला गुट्टा ने देश के लिये तमाम प्रतिस्‍पर्धाओं में मेडल जीते हैं। अपनी खूबसूरती से भी ज्‍वाला ने लोगों का ध्‍यान अपनी ओर खींचा है। उनके ग्‍लैमरस फोटोशूट को भला कौन भुला सकता है। लेकिन खेल में भी ज्‍वाला ने उतना ही नाम कमाया है। ज्‍वाला ने दिल्‍ली कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में भारत के लिए 2 स्‍वर्ण और एक रजत पदक जीते हैं। बाएं हाथ से नेट पर आक्रामक खेलने वाली ज्‍वाला गुट्टा 2014 तक 14 बार राष्‍ट्रीय चैंपियनशिप जीत चुकी हैं। तेलगू पिता और चीनी मां की बेटी ज्‍वाला लंबे समय से देश की शीर्ष महिला खिलाड़ी हैं।


प्राची तेहरान
भारत में नेटबॉल को नई दिशा देने में जुटी प्राची तेहरान से लोग कम ही परिचित हैं। प्राची कोर्ट पर जितनी तेज-तर्रार हैं असल जिंदगी में उतनी ही मासूम। प्राची तेहरान 2010 में दिल्‍ली कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स के समय भारतीय टीम की कमान संभाल चुकी हैं। 25 साल की प्राची तेहरान दिल्‍ली की जाट फैमिली में पैदा हुईं। और नेटबॉल के साथ ही बॉस्‍केटबॉल की भी प्रोफेशनल प्‍लेयर हैं। खूबसूरत प्राची को क्‍वीन ऑफ द कोर्ट का निक नेम भी मिला हुआ है। भारत ने प्राची की अगुआई में ही पहला अंतर्राष्‍ट्रीय मेडल साल 2011 में श्रीलंका में आयोजित साउथ एशियन बीच गेम्‍स प्रतियोगिता में जीता। 


मिताली राज
मिताली राज भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्‍तान हैं। टेस्‍ट क्रिकेट में पहला दोहरा शतक (214) लगाने वाली पहली महिला खिलाड़ी भी हैं। भारतीय महिला क्रिकेट में तेंदुलकर के उपनाम से जानी जाने वाली मिताली के नाम भारत की ओर से सबसे ज्‍यादा रन बनाने का रिकार्ड है। वे वन डे में (6000) सबसे ज्‍यादा रन बनाने वाली खिलाड़ी हैं। मिताली राज को भी अपने खेल में बेहतर प्रदर्शन के लिये पद्म श्री से नवाजा गया है।


झूलन गोस्‍वामी
झूलन गोस्‍वामी ने 2002 में पदार्पण किया था और उन्‍हें 2007 में आईसीसी की साल की सर्वश्रेष्‍ठ महिला क्रिकेटर चुना गया था अभी हाल ही में फ़रवरी 2018 में झूलन गोस्‍वामी ने विश्‍व क्रिकेट में 200 विकेट लेने का रिकॉर्ड स्‍थापित किया वे विश्‍व की वन डे क्रिकेट में विश्‍व की पहली सबसे ज्‍यादा विकेट लेने वाली खिलाड़ी बन गयी हैं।
साक्षी मलिक
मूलत: रोहतक हरियाणा की रहने वाली खिलाड़ी जिसकी मां इन्‍हें एथलीट बनाना चाहती थीं लेकिन उन्‍हें रेसलिंग से लगाव था। 2016 के रियो ओलंपिक में 58 किलो वर्ग में कुस्‍ती में कांस्‍य पदक जिताकर भारत का नाम रोशन किया।


भारतीय महिलाओं का खेलों में प्रतिनिधित्‍व:

अगर ओलंपिक के सन्‍दर्भ में हम बात करते हैं तो खेल का महासंग्राम कहे जाने वाले ओलंपिक की शुरूआत 1869 एथेंस से हुई और भारत के एथलीट्स इसमें 1924 से हिस्‍सा ले रहे हैं।1900 से समर ओलंपिक में महिला खिलाडि़यों ने खेलना शुरू किया,1924 में पहला बार 2 महिला खिलाडि़यों ने ओलंपिक में भाग लिया, भारत की ओर से भाग लेने वाली पहली ओलंपियन मेरी डिसूजा थी जिन्‍होने 1952 हेलसिकी ओलंपिक में 100 और 200 मी में 5वें और 7वें स्‍थान पर रही थी।
आश्चर्य है कि इतने लम्‍बे समय से हिस्‍सा लेने के बाद भी भारत को आज तक कुल 28 पदक ही हासिल हुए हैं और इन 28 पदक में भी 5 पदक महिलाओं ने जीते हैं 2000 में कर्णम कल्‍लेश्‍वरी ने 69किग्रा भारोत्‍तोलन मे कास्‍य, 2012 में सायना नेहवाल ने बैडमिंटन में कास्‍य,साक्षी मलिक ने 58 किलो वर्ग की फ्री स्‍टाइल कुश्‍ती में कास्‍य ,मैरीकाम ने 51 किलो वर्ग मुक्‍केबाजी में ,2016 रियो ओलंपिक में पी वी सिन्‍धु ने बैडमिंटन में भारत को महिलाओं में पहला रजत पदक जिताया।
न केवल महिलाओं के नजरिये से बल्कि खेल के स्‍तर पर हमारे देश को समीक्षा करनी चाहिए, भारत के लिए ओलंपिक खेलों में हम मेडल की बात करें तो कर्णम कल्‍लेश्‍वरी ने ओलंपिक में महिलाओं के लिए खाता खोला तो गलत नहीं होगा, कर्णम मल्‍लेश्‍वरी के सिडनी ओलंपिक में मेडल जीतने से पहले भारत की किसी महिला ने ओलंपिक में मेडल नही जीता था, साइना नेहवाल ,तीन बच्‍चों की मॉं एम सी मैरीकाम , साक्षी मलिक , पी वी सिन्‍धु, विवाहिता सानिया मिर्जा ने अपने उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन से भारत का सिर दुनिया के खेल मंच पर ऊंचा  किया है। इन खिलाडि़यो को पूरे भारत की तरफ से कड़कदार सेल्‍यूट।

खेलों से महिला सशक्तिकरण के लाभ:
महिलाओं को एक सार्थक एवं उद्देश्‍यपूर्ण जीवन जीने का आत्‍मविश्‍वास दिलाने को ही सही मायनों में महिला सश‍क्तिकरण कहते हैं। खेल दूसरों पर उनकी निर्भरता समाप्‍त करते हुए उन्‍हे अपने आप में ही सबल बनाने का प्रयास है।
·        महिला सशक्तिकरण से महिलाओं को गरिमा और स्‍वतंत्रता के साथ अपने जीवन का नेतृत्‍व करनेमे सक्षम बनाता है।
·        यह उनका आत्‍मसम्‍मान बढ़ाता है।
·        इसकी वजह से उन्‍हे एक अलग पहचान मिलती है।
·        वे समाज में सम्‍मानित पदों को प्राप्‍त करने मे  कामयाब होती हैं।
·        वे वित्‍तीय रूप से आत्‍मनिर्भर होती हैं ।
·        वे समाज के कल्‍याण के लिए सार्थक योगदान दे सकती हैं।
·        वे सक्षम नागरिक बन‍ती हैं और देश के सकल खेल उत्‍पाद को बढ़ाने में सहयोग कर पाती हैं।
·        वे देश के संसाधनों में उचित एवं न्‍यायसंगत हिस्‍सा प्राप्‍त करने में कामयाब होती हैं ।
महिला सशक्तिकरण की आवश्‍यकता:
·        बिना महिला सशक्तिकरण के हम अन्‍याय , लिंग-भेद और असमानताओं को दूर नहीं कर स‍कते।
·        अगर महिलाऍ सशक्‍त नहीं है तो उन्‍हे जीवन में सुरक्षा और संरक्षण का आनंद प्राप्‍त नहीं हो सकता । 
·        इससे उन्‍हे कार्य करने के लिए सुरक्षित वातावरण प्राप्‍त होता है।
·        महिलाओं के उत्‍पीड़न और शोषण के खिलाफ सशक्तिकरण एक शक्तिशाली औजार के रूप में कार्य करता है।
·        यह महिलाओं के लिए पर्याप्‍त कानूनी संरक्षण प्रदान करने का एक बड़ा साधन है।
·        अगर सामाजिक और आर्थिक रूप से महिलाऍ सशक्‍त नहीं की गई तो वे अपनी खुद की पहचान का विकाश नहींकर पाएंगी।
·        अगर महिलाओं को रोजगार नहीं प्रदान किया गया तो वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।
·        महिलाऍ बेहद रचनात्‍मक व बुद्धिमान होती हैं और इस वजह से सामाजिक और आर्थिक गतिविधियों मे उनका योगदान प्राप्‍त करना जरूरी है।
·        एक न्‍यायसंगत व प्रगतिशील समाज के लिये महिलाओं को संघर्ष के समान अवसर प्रदान करने की जरूरत है।
महिला सशक्तिकरण के साधन :
शिक्षा: उचित और पर्याप्‍त शिक्षा के बिना महिलाओं को सशक्‍त व्‍यक्तित्‍वों मे परि‍वर्तित नहीं किया जा सकता ।उन्‍हे उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करने के लिए प्रोत्‍साहित किया जाना चाहिए ताकि वे एक ज्ञानवान समाज के निर्माण में योगदान दे सकें।
संचार कौशल: प्रभावी संचार कौशल के बिना महिलाएं अपनी आवाज बुलंद नहीं कर सकती । सफल होने के लिए उनका प्रभावी ढंग से संवाद कर पाना उनके लिए जरूरी है। एक परिवार टीम या कंपनी को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने के लिए नेताओं के रूप में उन लोंगों को अपनी बात कहने की आवश्‍यकता है।
प्रयोज्‍य आय: महिलाओं के जीवन में महत्‍वपूर्ण वित्‍तीय फैंसलों में उनकी भी सुनी जाए इसके लिए उन्‍हे अच्‍छा कमाने की आवश्‍यकता है। वित्‍तीय रूप से आत्‍मनिर्भर महिला हमारे जीवन एवं हमारे कारोबार के विकाश में भी अपना योगदान देती है।
इंटरनेट की शक्ति: इंटरनेट की उपलब्‍धता ने महिलाओं के सामाजिक संपर्क के दायरे में वृद्धि करने के साथ ही उनके ज्ञान और जागरूकता का भी विकाश किया है। दुनिया भर मे फैले इंटरनेट ने महिलाओं से संबंधित सभी मिथकों उनके बारे में प्रचलित गलत धारणाओं को समाप्‍त कर दिया है।

निष्‍कर्ष- यदि हम सही मायनों में महिला सशक्तिकरण करना चाहते हैं तो पुरूष श्रेष्‍ठता और पितृसत्‍तात्‍मक मानसिकता का उन्‍मूलन किया जाना बेहद जरूरी है इसके लिए बिना किसी भेदभाव के शिक्षा एवं रोजगारके क्षेत्रों मे महिलाओं को समान अवसर प्रदान किए जाने की आवश्‍यकता है।
सन्‍दर्भ सूची:
1. पैलिनीथुराई जी इण्डियन जनरल ऑफ एडमिनिस्‍ट्रेशन वी एस टप्‍पन । जनवरी 2001पृष्‍ठ39
2. मीहेनडल लीला अचीवमेण्‍ट एवं चैलेन्‍जर योजना अगस्‍त 2001 पृष्‍ठ 56
3. लाबानिया एम एम भारतीय महिलाओं का समाज शास्‍त्र रिसर्च पब्लिशर जयपुर 2004
4. कार्यस्‍थलों पर भेदभाव से संघर्ष प्रगति मे बाधाएं धम (आई एल ओ की पत्रिका )संख्‍या 43दिसंबर 2011 पृष्‍ठ 19
5. सेतिया सुभाष स्‍त्री अस्मिता के प्रश्‍न सामायिक प्रकाशन दिल्‍ली 2008 पृष्‍ठ 92 93
6. निर्मल रानी महिला सशक्तिकरण कितनी हकीकत कितना फसाना 2011
7. वेद प्रकाश अरोड़ा राष्‍ट्रमण्‍डल खेलने रचा इतिहास नारी शक्ति : (प्रवक्‍ता कॉम पर छपा लेख ) 2010
                                
   

A PROJECT REPORT ON MANSIK SWASTYA AUR YOUG, मानसिक स्वास्थ और योग कॉलेज प्रोजेक्ट


                                             मानसिक स्वास्थ और योग

आधुनिकता तनाव का दूसरा नाम हो चुका है। आज हमारा जीवन अलग-अलग वजह से तनाव का शिकार है। ये तनाव हमारी मानसिक शांति भंग करने के साथ-साथ हमें शारीरिक नुकसान भी पहुंचाता है। इन मानसिक और शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए आप तरह-तरह के इलाज करवाते हैं। लेकिन ये सभी इलाज बहुत खर्चीले होते हैं। साथ ही, इनके साइड इफेक्ट्स भी होते हैं। आज के वक्त में ऐसा कोई नहीं है जो फिट नहीं रहना चाहता है| शारारिक तौर पर फिट व्यक्ति सबको अपनी और आकर्षित कर लेता है| लेकिन आज के युग में हमें कई ऐसे साधन मिले है जिससे हमारा शारारिक काम कम हो गया है| जैसे पहले लोग बिल भरने के लिए लाइनो में खड़े रहते थे| अब वही काम एक चुटकी में घर बैठे बैठे हो जाता है| इसके अतिरिक्त आज के लोग फ़ास्ट फ़ूड खाना ज्यादा पसंद करते है, जो की शरीर के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं होता है|

इस तरह असंतुलित खानपान और शारारिक काम की कमी हमारे शरीर को ख़राब कर देती है| इन सबके कारण हमारे शरीर पर चर्बी जमने लगती है| शरीर पर चर्बी जमने से ना केवल आपका शरीर मोटा होता जाता है बल्कि कई बीमारिया आपके शरीर को घेर लेती है| शरीर पर चर्बी जमने से हमारा शरीर बेकार भी दिखाई देता है| और कई बार तो यह इतना बेडौल हो जाता है की सबके बीच उठने बैठने में भी शर्म महसूस होने लगती है|
योग के जरिये व्यक्ति अपनी फिटनेस को वापिस पा सकता है| बस यही वजह है की लोग आजकल योग को प्राथमिकता देने लगे है| यह पूरे शरीर के लिए, सभी अंगों के लिए एक बेहतरीन व्यायाम है| यह शारीरिक, मानसिक फायदों के अलावा सुस्ती को दूर करने का भी सबसे अच्छा तरीका है।
 अगर आप इन समस्याओं और ऐसे इलाज से बचना चाहते हैं तो आप योग आसन का अभ्यास करें। योग का ये आसन करने में बहुत आसान है। ये असल में स्ट्रेचिंग ही है। इसके अभ्यास से आपका शारीरिक और मानिसिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं|
परिचय :
श्री आर0एस0 भोगल (कैवल्यधाम) के अनुसार यदि संसार के मनौवैज्ञानिक विवेचन के इतिहास को निष्पक्ष रूप से खोजा जाए, तो यह ज्ञात होगा कि यूनानी मनोविज्ञान के जन्म के सैकड़ो वर्ष पूर्व भारतीय मनोवैज्ञानिकों ने आत्म-विकास, चरित्र निर्माण, आदत का मनोविज्ञान, पशु मनोविज्ञान नारी और पुरूष मनोविज्ञान, यौन मनोविज्ञान, मानसिक आरोग्य मनोविज्ञान, बाल मनोविज्ञान, चिकित्सात्मक मनोविज्ञान इत्यादि मनोविज्ञान के अनेक पहलुओं में महत्वपूर्ण मनोवैज्ञानिक तथ्यों का पता लगाया था। प्राचीन उपनिषदों तथा भारत में हजारों साल तक करोड़ो व्यक्तियों ने इन तथ्यों पर अमल करके इनकी प्रमाणिकता को सिद्व किया है। भले ही इसे दार्शनिक मनोविज्ञान माना जाए तो भी इससे उसका महत्व कम नही होता क्योंकि प्राचीन यूनानी मनोविज्ञान भी दार्शनिक मनोविज्ञान ही था। मानसिक आरोग्यता को जानने से पहले यह जानना आवश्यक है कि स्वास्थ्य क्या है? विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार ‘‘ स्वास्थ्य शारीरिक, मानसिक, सामाजिक तथा आध्यात्मिक सुख की एक पूर्ण अवस्था है न कि केवल रोग विशेष तथा शारीरिक कमी की अनुपस्थिति।’’ यह परिभाषा विकासपूर्ण है। अतः विद्वानों के अनुसार मानसिक स्वास्थ्य की परिभाषा-‘‘मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का सामना और निराकरण करने की तथा ऐसा करते हुए योग्य व समुचित पर्यायों का चयन करने की वह क्षमता है जिससे सुख की भावना और सन्तोष का अनुभव हो।’’ ‘‘मानसिक स्वास्थ्य स्वीकार करता है कि सकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य का अर्थ केवल मानसिक रोगों से मुक्त होना नहीं बल्कि कुछ और है।’’
मूल्याकंन के उददेश्य व अनुभव के आधार पर मानसिक स्वास्थ्य के चार प्रभाव-शाली परिणाम हो सकते हैं।
·         1.सकारात्मक उददेश्य व प्रभावशाली अनुभव का मूल्यांकन।
·         2. नकारात्मक प्रभावपूर्ण अनुभव का मूल्यांकन।
·         3. नकारात्मक व्यवहार की योग्यता में व्यक्तिगत योग्यता का अनुभव।
·         4. व्यक्तिगत सकारात्मक अनुभव का ज्ञान (साहू और विद्याधर 1998)
विभिन्न कारणों से वर्तमान काल में मानसिक आरोग्यता को प्राप्त करना कठिन हो गया है। हजारों वर्षो पहले रचित मनोवैज्ञानिक व दार्शनिक पतंजलि योग सूत्र के अनुसार मानसिक अस्वास्थ्य के मूल में मुख्य रूप से ‘‘क्लेश’’ होते हैं। क्लेश पॉंच प्रकार के हैं।

·         1. अविद्या : दृश्य जगत के साथ आत्मीकरण होना तथा अपने वास्तविक स्वरूप को भूला देना अविद्या है। दूसरे शब्दों में अपने शरीर स्थान वस्तुओं इत्यादि के प्रति आसक्ति उत्पन्न होना तथा उन्हे शाश्वत सत्य मान लेना अविद्या है।
·         2. अस्मिता : ‘‘मैं हॅूं’’ का भान या अहंकार भाव अस्मिता है। इस भाव के कारण जीवन के प्रत्येक क्षण व विशेष आध्यात्मिक प्रगति में सबसे अधिक बाधा मानी गयी है।
·         3. राग : सांसारिक वस्तुओं के प्रति आसक्त होना राग है।
·         4. द्वेष : दूसरों के प्रति घृणा का भाव रखना द्वेष है।
·         5. अभिनिवेश : जीवन में प्रत्येक क्षण मृत्यु का भय अभिनिवेश है।
उक्त क्लेश आनुवंशिकता के कारण प्राप्त होते हैं तथा फिर ये क्लेश पर्यावरण से प्राप्त हुए तनावों से मिलकर मनुष्य के मानसिक स्वास्थ्य को बुरी तरह बिगाड़ देते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य का सिद्वान्त

पाश्चात्य अवधारणा

पाश्चात्य अवधारणा के अनुसार ‘‘ मानसिक आरोग्य’’ को समझने से पहले यह जानना आवश्यक है कि पाश्चात्य मनोविज्ञान क्या है? पाश्चात्य मनोविज्ञान मानव व्यवहार का विज्ञान है। यह मानव जीवन के व्यावहारिक पक्षों का अध्ययन करता है। पाश्चात्य मनोविज्ञान में मन द्वारा मानसिक जगत् का ही अध्ययन किया जाता है तथा यह मानव के व्यवहार जगत् तक ही सीमित रहता है। पाश्चात्य मनोविज्ञान में यह मान्यता है कि ‘‘शरीर की क्रिया से ही मन क्रियाशील होता है’’उसमें मन को स्वतंत्र सत्ता नहीं माना गया है। बल्कि मन को साधारण मानसिक प्रक्रियाओं के ज्ञान का साधन माना गया है। मन को कम्प्यूटरवत् यंत्र माना गया है। उसमें वस्तु प्रत्यक्ष के आधार पर ही , वैज्ञानिक उपकरणों द्वारा प्रयोग से प्राप्त ज्ञान को वास्तविक ज्ञान माना गया है।’’ पाश्चात्य मनोविज्ञान में मन को मस्तिष्क की एक क्रिया या कार्य माना गया है , और क्रिया के अतिरिक्त मन का कोई अस्तित्व स्वीकार नहीं किया गया है। पाश्चात्य मनोविज्ञान में मानसिक आरोग्यता प्राप्त करने के लिए मन को प्रसन्न रखने को कहा गया है।
मनोविद् स्टेंन्ज के अनुसार -‘‘मानसिक स्वास्थ्य से तात्पर्य उस सीखे हुए व्यवहार से अधिक कुछ भी नहीं है , जो कि सामाजिक रूप से अनुकूल है और जो व्यक्ति को जीवन का पर्याप्त रूप से सामना करने की क्षमता देता है।’’
पी0 वी0 ल्यूकन के अनुसार -‘‘मानसिक रूप स्वस्थ व्यक्ति वह है जो स्वयं सुखी है। अपने पडोसियों के साथ शांतिपूर्वक रहता है , अपने बच्चों को स्वस्थ नागरिक बनाता है और इन आधारभूत कर्त्तव्यों को करने के बाद भी जिसमें इतनी शक्ति बच जाती है कि वह समाज के हित में कुछ कर सके।’’
कार्ल मेनिंगर के अनुसार - ‘‘मानसिक स्वास्थ्य अधिकतम प्रभावशीलता एवं सहर्षता के साथ वातावरण एवं उसके प्रत्येक दूसरे व्यक्ति के साथ मानव समायोजन एक संतुलित मनोदशा, सजग बुद्वि , सामाजिक रूप से मान्य व्यवहार और प्रसन्नचित बनाए रखने की क्षमता है।’’
अतः मानसिक स्वास्थ्य व्यक्तित्व के विश्वस्त गुणों की स्थितियों को परिभाषित करता है। मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति समाज से समायोजन कर सकता है। वह संतुलित मानसिक स्थिति को प्रदर्शित करता है जिससे विभिन्न परिस्थितियों में वह एक श्रेष्ठ व्यवहार कर सकता है। समाज के साथ समायोजन करने के लिए व्यक्ति को सामान्य होना आवश्यक है।
सामान्य तथा असामान्य के सन्दर्भ में मनौवैज्ञानिकों में आज भी आम सहमति नहीं है। एक समाज में सामान्य मानी जाने वाली व्यवहार शैली दूसरे समाज में असामान्य मानी जा सकती है। किसी भी समाज में संस्कृति, परिस्थिति तथा काल के अनुसार ‘‘सामान्य’’ और ‘‘असामान्य’’ की संकल्पनायें बन जाती है। उसी प्रकार यह आवश्यक नहीं है कि किसी कार्य में प्राप्त क्षमता तथा परिणामकारिता यदि मनोविज्ञान की दृष्टि से भी सामान्य मानी जाय। सामान्य को समझने के लिए हमें आधुनिक मनोवैज्ञानिकों के अर्थो को समझना आवश्यक है।
·         1- फ्रायड का विचार : फ्रायड के मतानुसार ‘‘मन के उपकरण’’ के तीन घटक इदम् , अहम् , परम् है। इन तीनों घटकों में होने वाले असन्तुलन के परिणाम स्वरूप ‘‘असामान्यता’’ का उद्भव होता है। इनका कारण बचपन में दबी हुयी आवश्यकतायें, इच्छायें तथा व्यक्तिगत मूल्य निर्माण में असफला ही है। ये सभी ‘‘असामान्यता’’ के कारण हैं। फ्रायड की दृष्टि से प्रेम करने की तथा प्रेम को स्वीकार करने की क्षमता तथा उत्पादन क्षमता ‘‘समान्यता’’ के संकेतक हैं।
·         2- एरिक्सन का विचार : ऐरिक्सन के अनुसार व्यक्तित्वक्रमशः धीरे धीरे विकसित होने की प्रक्रिया है। जन्म से मृत्यु तक कुछ प्रमुख विकास अवस्थायें हैं जिनमें व्यक्तित्व के विशेष पहलू विकसित होते है जैसे - विश्वास, स्वनियंत्रण, उपक्रमशीलता उत्पादन क्षमता, सुसवादित्व इत्यादि। ऐरिक्सन के मत में इस विचार प्रक्रिया में गड़बड़ी उत्पन्न होने पर मानसिक ‘‘असामान्यता’’ का उदभव हो सकता है या किसी एक पहलू का विकास ठीक से न हो पाये तो भी ‘‘असामान्यता’’ की स्थिति होती है।
·         3- आलपोर्ट के विचार : मैत्री के सामाजिक सम्बन्ध जीवन में स्वयं से परे जाकर विचार करने की क्षमता , वास्तविकता का अहसास, योग्य तथा उपयुक्त कुशलताओं की परिपूर्ति का प्रयास इत्यादि बातें मानसिक ‘‘समान्यता’’ की परिचायक है।
·         4- मैस्लों का विचार : मैस्लों ने उन लोगों का अध्ययन किया जो जीवन में को्रई उच्च ध्येय रखते थे और जिन्हें उन ध्येयों की परिपूर्ति के सम्बन्ध में समुचित शुद्व ज्ञान था उसके अनुसार मनुष्य के सामने पॉंच प्रकार की आवश्यकताओं के एक के ऊपर एक ऐसे पॉंच स्तर होते हैं-
·         1. आत्मक्षमता पूर्णतया साकार करना।
·         2. आत्मसम्मान तथा स्वतत्व।
·         3. प्रेम तथा सामाजिक सम्बन्ध।
·         4. सुरक्षा।
·         5. शारीरिक मूलभूत आवश्यकताओं जैसे भूख , प्यास इत्यादि।
·        5- आदर्शवादी विचार : मैस्लो के मतानुसार किसी एक या अधिक आवश्कताओं की पूर्ति में मनुष्य की असफलता मानसिक ‘‘असामान्यता’’ का कारण बन सकती है। यह विचार मानव को अपेक्षाकृत उच्च दृष्टि से देखता है। इस श्रेणी में प्रमुख रूप से मनोवैज्ञानिक मैस्लो और रोजर्स आते हैं। मैस्लो मनुष्यों के स्वप्रकटीकरण और स्वत्व विकास की उच्चस्तरीय आवश्यकताओं की पूर्ति को अधिक महत्व देता है। उसके अनुसार मनुष्य स्वयं में निहित सुप्त क्षमता विकसित कर अपनी एक वास्तविक पहचान बनाता है। इस प्रकार वह एक विशेष स्वतंत्रता का उपभोग करता है। ऐसा व्यक्ति ही मानसिक दृष्टि से ‘‘सामान्य’’ कहलाता है। उसका व्यवहार ‘‘सामान्य’’ होगा।
एक आदर्श जीवन शैली - (W.H.O) के अनुसार ‘‘सकारात्मक अच्छा क्रियाकलाप’’ ही मानसिक स्वास्थ्य का सिद्वान्त है। अतः मानसिक स्वास्थ्य से हमारा दृष्टिकोण रोगों की कमी के बजाय एक आदर्श के सम्बन्ध में है। कोर्चिन के शब्दों में समान्यतया- ‘‘मूल्यों से बचना न तो सम्भव है और न तो वांछित।’’ ऑफर और सबरीन ने मनोविज्ञान, मनोरोग विज्ञान, समाजशास्त्र एवं मानव शास्त्र में सामान्यतया के विषय में बतलाया। कोर्चिन ने 'सामान्यता' का निर्धारण इन पॉंच कसौटियों पर किया है-
  • 1- स्वास्थ्य की मनोवैज्ञानिक दृष्टि से सामान्यता : स्वास्थ्य का सामान्य अर्थ ‘‘बीमार न होना’’ या रोग का अभाव है। यदि व्यक्ति में कोई गम्भीर विकृति नहीं है तो व्यवहार को सामान्य माना जाता है। ऑफर व सबरीन के अनुसार - यह श्रेष्ठ या आदर्श की स्थिति में नहीं बल्कि केवल पर्याप्त की स्थिति को इंगित करता है। उक्त प्रकार से सामान्य व्यवहार वाला व्यक्ति स्वस्थ है तथा समाज से समायोजन करके चलते हुए मानसिक आरोग्यता प्राप्त करता है।
  • 2- आदर्श की मनोवैज्ञानिक दृष्टि से सामान्यता : आदर्श व श्रेष्ठ की स्थिति में व्यक्ति सामान्य हो तो वह सामान्य है। कार्लरोजर्स के अनुसार पूर्णतया क्रियाशील व्यक्ति तथा आलपार्ट का परिपक्व व्यक्तित्व आदि इस आदर्श के विविध रूप है। फ्रायड के अनुसार- सामान्यता एक आदर्श कल्पना है। दूसरे अर्थ में प्रत्येक विचारक के लक्षण अपने अपने मूल्यों के अनुसार भिन्न भिन्न होने से ये आदर्श या उपचार की प्रक्रिया को लक्ष्य प्रदान करता है। इस विचार से मानसिक आरोग्यता प्राप्त होती है।
  • 3- मनोवैज्ञानिक दृष्टि से औसत की सामान्यता : सांख्यिकी के अनुसार जो औसत है, वही सामान्य है तथा औसत से अधिक या कम असमान्य होता है। उदाहरणनुसार - बुद्धि लब्धि का मध्यमान (औसत) 100 है। 100 से कम 80 100 से अधिक 120 तक सामान्य बुद्धि तथा 100 से कम 50 100 से अधिक 150 तक असामान्य कहा जायेगा। यह विचार वैज्ञानिक दृष्टि की अपेक्षा व्यावहारिक दृष्टि से सही व उपयोगी है क्योंकि यह व्यक्ति के गुणों के वास्तविक अनुभव के उत्पन्न तथा वर्गीकरण के आधार पर तैयार होता है।
  • 4- सामाजिक स्वीकार्यता की मनोवैज्ञानिक दृष्टि से सामान्यता : समाजशास्त्री एवं मानवशास्ति्रयों के अनुसार यदि कोई व्यवहार शैली, आदर्श समाज के द्वारा मान्य या समाज के अनुरूप होते हैं तो उसे सामान्य कहा जाता है और यदि ऐसा नहीं है तो उसे असामान्य कहा जाता है। लिनटन के अनुसार - ‘‘सामान्य व्यवहार वही है जो सामाजिक प्रत्याशाओं के साथ मेल खाता हो।’’ परन्तु यह जरूरी नहीं है कि एक समाज में सामान्य कही जाने वाली व्यवहार शैली, आदर्श दूसरे समाज में भी सामान्य कही जाये कुछ व्यवहार शैली, आदर्शो को दूसरे समाज में असामान्य माना जा सकता है।
  • 5- एक प्रक्रिया की मनोवैज्ञानिक दृष्टि से सामान्यता : एरिक्सन का व्यक्तित्व सिद्वान्त इसी पर आधारित है। इसके अनुसार शिशु अवस्था की सामान्य क्रियाओं के प्रौढ़ावस्था में असामान्य माना जाता है। इसी प्रकार युवावस्था की सामान्य क्रियाओं को वृद्वावस्था में असामान्य माना जाता है। इस प्रकार एक समय जो प्रक्रिया शिशु के लिये सामान्य है वही प्रक्रिया प्रौढ़ावस्था तथा युवावस्था में असामान्य हो जाती है। यदि शिशु वाले कार्य प्रौढावस्था में भी किए जायेगें तो वह असामान्य कार्य समाज द्वारा बतलाये जायेंगे। इस प्रकार पाश्चात्य मनौवैज्ञानिकों द्वारा मानसिक रूप से आरोग्यता हेतु वह व्यक्ति सामान्य है, जो रोगी नहीं, औसत है। सामाजिक मानक मानता है और आदर्श, परिपक्व एवं पूर्ण क्रियाशील व्यक्तित्व है। मानसिक स्वास्थ्य की पहचान उसके लक्षणों से करना उचित प्रतीत होने से मनोवैज्ञानिकों के अनुसार मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति के कुछ प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं :-
  • 1- आत्म मूल्यांकन
2- आत्म नियंत्रण की भावना
3- समायोजन की क्षमता
4- सुरक्षा की क्षमता
5- जीवन के प्रति यथार्थवादी दृष्टिकोण
  • 6- समन्वित व्यक्तित्व :- इसमें शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, बौद्धिक, भावनात्मक आदि आयाम संतुलित रहते हैं जिससे व्यक्ति अन्दरूनी तनाव से मुक्त रहता है क्योंकि सभी बुद्धि संवेग , क्रिया आदि आयाम पूरी शक्ति से कार्य करते हैं जिससे अन्दरूनी संघर्ष में शक्ति नष्ट नहीं होती तथा व्यक्ति मानसिक आरोग्यता को प्राप्त करता है।
जहोदा (1958) ने मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति के विषय में कई परिभाषाएॅं दी हैं और मानसिक स्वास्थ्य के निम्नलिखित सिद्वान्त प्रतिपादित किये है।
·         1- स्वयं के प्रति व्यक्ति का रूझान
·         2- वृद्धि विकास और आत्म निरीक्षण
·         3- युग्मन
·         4- स्वयत्तता
·         5- वास्तविकता का ज्ञान
·         6- वातावरणीय आधिपत्य

भारतीय अवधारणा

‘‘ संसार के सभी प्रगतिशील देशों में सभ्यता के जटिल होने के साथ साथ मानसिक रोगों की संख्या भी बढ़ रही है और इस दिशा में चिकित्साशास्त्र के क्षेत्र में बराबर अनुसन्धान किये जाते रहे हैं। हिन्दू मनोविज्ञान अर्थात भारतीय मनोविज्ञान ने अति प्राचीनकाल से मानसिक आरोग्य के क्षेत्र में विचार किया तथा दो दिशायें बतलायी एक तो चिकित्सात्मक दृष्टि से और दुसरा अध्यात्मिक दृष्टि से। भारतीय चिकित्सा के ग्रन्थों में विभिन्न मानसिक रोगों के लक्षणों और कारणों तथा उपचारों का विस्तृत उल्लेख मिलता है। दूसरी ओर समाधि की चरम अवस्था को प्राप्त करने के लिए साधना करने वाले मनीषियों ने भी विभिन्न प्रकार की मानसिक व्याधियों और उनकों दूर करने के उपायों पर विचार किया है। भारतीय आध्यात्मिक साधना में मानसिक आरोग्य एक आवश्यक शर्त रही है। इसे प्राप्त किए बिना आध्यात्मिक साधना सम्भव नहीं है। अतः आध्यात्मिक साधना के मार्ग में आगे बढ़ने वाले जिज्ञासुओं को सबसे पहले मानसिक आरोग्य प्राप्त करना चाहिए। इस दिशा में भारतीय विचारको का महत्वपूर्ण योगदान है।’’ मानसिक आरोग्य और चिकित्सा के क्षेत्र में भारतीय मनोवैज्ञानिकों के विचार लम्बी सांस्कृतिक परम्पराओं और हजारों सालों के अनुभवों पर आधारित है।
उपनिषद् ग्रन्थों में मानवचेतना की दशाओं की चर्चा की गयी है। माण्डूक्य उपनिषद् के अनुसार आत्मा की 4 दशायें होती हैं जिनमें भिन्न-भिन्न प्रकार की चेतना पायी जाती है। जैसे जाग्रत, स्वप्न, सुषुप्ति और तुरीय। जाग्रत चेतना वेश्वानर कहलाती है। स्वप्न की चेतना तेजस कहलाती है। सुषुप्ति की चेतना को प्रज्ञा कहा जाता है। तुरीय की अवस्था आनन्द की अवस्था है। अधिकतर उपनिषदों ने चेतना की इन्हीं चार अवस्थाओं को माना है। किन्तु फिर इसके अपवाद भी हैं। प्रपंच सार तन्त्र के अनुसार उपरोक्त चार दशाओं के अलावा चेतना की एक अन्य दशा भी है जिसको तुरीयातीत कहा गया है। ब्रह्म बिन्दु उपनिषद में उन्मनी भाव नाम से तुरीय अवस्था से परे एक अवस्था बतायी गयी है। यह चेतना की सर्वोच्च अवस्था है।
योगशिखोपनिषद के अनुसार- उन्मनी भाव की चेतना में मन की समस्त वृत्तियॉं समाप्त हो जाती है। मानसिक आरोग्यता को प्राप्त करते -करते साधक अपने लक्ष्य (समाधि) की तरफ अग्रसर होता जाता है। इस प्रकार भारतीय मनोवैज्ञानिक ने चेतना की विभिन्न अवस्थाओं का विश्लेषण करके मनोवैज्ञानिक समस्याओं को सुलझाने का प्रयास किया है। चूॅंकि अनेक मनोजनित रोग मनस में ही जन्म लेते हैं। भारत के मनोवैज्ञानिक खोज का लक्ष्य चेतन और अचेतन सभी प्रकार के प्रयासों से एक अति चेतन अवस्था को प्राप्त करना रहा है जो कि सब प्रकार के संकलन की अवस्था है। इसे परमार्थ कहा जा सकता है। इसे आत्म अथवा ब्रह्म का साक्षात्कार भी कहा गया है। इन्दि्रय सुख भोग अथवा नैतिक विकास इत्यादि सभी इस परम लक्ष्य के सामने गौण हैं। इसलिए सर्वप्रथम मानसिक रूप से स्वस्थ रहते हुए परम लक्ष्य को प्राप्त किया जाना सहज है अन्यथा परम लक्ष्य को पाना कठिन या असम्भव ही समझना चाहिए।
भारतीय विचाराकों के अनुसार जीवन का परम लक्ष्य सर्वांग है। इससे तात्पर्य यह नही है कि वे सभी प्रकार की प्रवृत्तियों को बराबर मानते हैं या उन्हें एक सा सन्तोष देन चाहते हैं। वास्तव में सर्वोच्च मानव मूल्यों के साक्षात्कार के लक्ष्य को लेकर ही प्रत्येक मानव प्रवृत्ति के सन्तोष की व्यवस्था की जायेगी। यह सर्वोच्च लक्ष्य बदल देने से ही सब कुछ बदल जाता है। भारतीय विचारक निरंकुश भोग का विरोध करते हैं। जहॉं कुछ विचारकों ने भोगों को पूर्णतया तिलॉंजलि देने की सलाह दी है वहॉं अन्य विचारक नियंत्रित सुखोपभोग के पक्ष में रहे हैं। भोगवादी तथा भोगों विरोधी दोनों ही प्रकार के विचारक तनावयुक्त जीवन को अच्छा नहीं मानते। भारतीय भोगवादियों ने शारीरिक, मानसिक और आध्यत्मिक विकास को दृष्टि में रखते हुए सदैव नियंत्रित भोग की सलाह दी है। अतः अनियंत्रित भोगवाद के स्थान पर परम लक्ष्य ले आने से ही समस्त मानसिक तनाव, संघर्ष और हताशायें दूर हो जाती हैं।
स्वामी अखिलानन्द के अनुसार- ‘‘संघर्ष और तनाव उत्पन्न करने के स्थान पर भारतीय मनोविज्ञान धार्मिक आदर्श को जीवन का सर्वोच्च लक्ष्य बनाकर इन मानसिक व्याधियों के कारणों का ही निराकरण कर देता है। चिकित्सात्मक और परामर्शवादी अनुभवों से यह स्पष्ट हो जाता है कि सुखवाद और सुख के सिद्वान्त से जीवन के दृष्टिकोण को हटाकर धार्मिक आदर्श पर लाये बिना मनोविकारों और मनोस्नायु विकारों के उपचार की कोई भी स्थायी योगदान नहीं दे सकता।
भारतीय विचारकों ने अनेक स्थान पर सब में ईश्वर, ब्रह्म आत्मा देखने की बात कही है। इसलिए इसके अतिरिक्त कोई भी आधार सामाजिक व्यवहार को ठोस आलम्बन प्रदान नहीं कर सकता। जैसे- यदि मैं स्वभाव से ही स्वार्थी हूॅं, यदि प्रकृति ने मुझे दूसरों से अलग बनाया है, यदि मैं अन्य से पूर्णतया असम्बद्व हूॅं तो किसी भी तर्क से यह सिद्व नहीं किया सकता कि मुझे दूसरों का भला करना चाहिए। समानता और भ्रातृत्व के नारों का कोई भी अर्थ तभी हो सकता है जबकि जो वे हैं वहीं मैं भी हूॅं। इस दृष्टि से भारतीय मनोविज्ञान मनुष्य के सामाजिक विकास का सही दृष्टिकोण उपस्थित करता है। अनेक चिकित्साशास्ति्रयों ने स्पष्ट किया है कि सामाजिकता के समुचित विकास के बिना कोई भी व्यक्ति मानसिक आरोग्य लाभ नहीं कर सकता। अनेक मानसिक व्याधियों के मूल में व्यक्तिके सामाजिक पहलू का अपर्याप्त विकास ही है। इस दृष्टि से भारतीय मनोवैज्ञानिकों के सुझाव अत्यधिक उपयोगी हैं।
मानसिक आरोग्यता प्राप्त करने के लिए व्यक्तित्व का विकास और सन्तुलन आवश्यक है। भारतीय मनोवैज्ञानिकों के अनुसार व्यक्तित्व का संकलन तभी प्राप्त हो सकता है जबकि समस्त मन समन्वित और एकात्मक हो। संकलित व्यक्तित्व से जहॉं व्यक्ति को स्वयं आनन्द मिलता है वहॉं वह दूसरों के लिए भी कल्याणकारी सिद्व होता है। इसलिए भारतवर्ष में गुरु के लिए संकलित व्यक्तित्व अत्यन्त आवश्यक माना गया है। यह आध्यात्मिक गुरू की अनिवार्य योग्यता है। इसके बिना वह शिष्य का कल्याण नहीं कर सकता। भारतीय मनोविज्ञान के अनुसार केवल संकलित व्यक्तित्व और समन्वित मन वाले मनोचिकित्सक ही मानसिक व्याधियों का उपचार कर सकते हैं। भारतीय मनोचिकित्सक जैसे - पतंजलि, शंकराचार्य, विवेकानन्द, श्री अरविन्द ये सब दार्शनिक अपने-अपने सिद्वान्तों के तथा संकलित व्यक्तित्व और समन्वित मन के कारण मनोचिकित्सक भी कहलाते हैं। भारतीय मनोवैज्ञानिकों ने विभिन्न प्रकार की मानसिक व्याधियों को दूर करने की विधियॉं बतलायी हैं। पतंजलिनुसार - सुखी और दुःखी, शुभ और अशुभ, विषयों के विषय में मैत्री, करूणा, मुदिता तथा उपेक्षा के विचार मन को शान्त करते हैं।
राजयोग में यम और नियम के पश्चात आसन और प्रणायाम, प्रत्याहार, धारणा और ध्यान को आवश्यक माना गया है। जिससे चित्तवृत्तियों पर नियंत्रण किया जाता है तथा मानसिक आरोग्यता प्राप्त की जाती है। भारतीय मनोवैज्ञानिकों ने सदा से ही शारीरिक और मनोवैज्ञानिक क्रियाओं और व्याधियों में परस्पर घनिष्ठ सम्बन्ध माना है और इसलिए मानसिक आरोग्य के लिए ऐसी विधियॉं सुझायी हैं जिनसे शारीरिक और स्नायविक आरोग्य भी प्राप्त होता है।

योग द्वारा मानसिक आरोग्य

‘‘योग‘‘ सकल्पना की जड़ मूल रूप से भारतीय विचारधारा से आयी है जबकि पश्चिमी विचारधारा के मूल में मानसिक आरोग्यता की संकल्पना रही है। भारतीय विचारधारा में ‘‘मन‘‘ की विभिन्न अवस्थाओं- मूढ़, क्षिप्त, विक्षिप्त, एकाग्र, निरूद्व आदि का उल्लेख मिलता है। महर्षि पतंजलि ने योगदर्शन के अन्तर्गत अष्टांग योग में समाधि का वर्णन किया है। इसलिए समाधि, मुक्ति, निर्वाण, आत्म साक्षात्कार, भगवद् प्राप्ति की अवस्था में व्यक्ति मानसिक रूप से आरोग्यता प्राप्त करता है। भारतीय विचारधारा में स्वस्थ मन के लिए विभिन्न साधन बताने पर भी मानसिक आरोग्यता जैसी स्वतन्त्र संकल्पना भारतीय विचारधार में न आने का कारण यह है कि भारतीय विचाधारा में व्यक्तित्व को सदैव समग्र रूप से लिया गया है न कि उसके विभिन्न पहलुओं पर अलग-अलग रूप से विचार किया गया है। योग शब्द जिस धातु से निष्पन्न हुआ है, वह पाणिनीय व्याकरणानुसार, दिवादि, रूधादि एवं चुरादि तीनों गणों में प्राप्त होता है। युज् समाधौ (दिवादिगण), युज संयमने (चुरादिगण), युजिर् योगे (रूधादिगण)। युज् धातु से व्युत्पन्न होने वाला योग भी पुल्लिंग में प्रयुक्त होने पर समाधि अर्थ का वाचक है परन्तु नपुसंकलिंग में प्रयुक्त होने पर योग-शास्त्र रूप अर्थ का ज्ञापक है। महर्षि व्यास ने भी योग का अर्थ समाधि बतलाया है। इस प्रकार गण भेद से योग शब्द के प्रमुख अर्थ समाधि, संयोग तथ संयमन होता है।
विष्णुपुराण के अनुसार -‘‘जीवात्मा तथा परमात्मा का पूर्णतया मिलन ही योग (अद्वेतानुभूतियोग) कहलाता है।’’
भगवद्गीताबोध के अनुसार- ‘‘दुःख-सुख, पाप-पुण्य, शत्रु-मित्र, शीत-उष्ण आदि द्वन्दों से अतीत (मुक्त) होकर सर्वत्र समभाव से व्यवहार करना ही योग है।’’
महर्षि पतंजलि के अनुसार - ‘‘अभ्यास-वैराग्य द्वारा चित्त की वृत्तियों पर नियंत्रण करना ही योग है।’’
सांख्य के अनुसार - ‘‘पुरूष एवं प्रकृति के पार्थक्य को स्थापित कर पुरूष का स्वतः के शुद्व रूप में अवस्थित होना ही योग है।
महर्षि चरक - ‘‘मन का इन्दि्रय एवं विषयों से पृथक् होकर आत्मा में स्थिर होना ही योग है।’’ ‘‘भारतीय धर्म में दर्शनशास्त्र व मानसशास्त्र एक दूसरे से जुड़कर चलते हैं। मनोचिकित्सा और मानसिक स्वास्थ्य के भारतीय विचार हजारों वर्षों पुराने रीति-रिवाजों, अनुभवों व प्रयोगों पर आधरित हैं।
प्राचीन उपनिषदों में चैतन्य के विभिन्न स्तरों के बारे में बताया गया है जैसे जागृत, स्वप्न, सुषुप्ति व तूर्य। श्री अरविन्द ने अपनी उपनिषदीय व्याख्या मे व अन्य भारतीय लेखकों ने निम्न से लेकर उच्चतम मनोचिकित्सा के स्तरों को प्रस्तुत किया जबकि फ्रायड व अन्य पाश्चात्य विद्वानों ने उच्च चैतन्य के मानसिक स्तर का निम्न स्तर की शीर्ष पर मनोचिकित्सा को प्रस्तुत किया जिसे गार्डनर मर्फी ने उच्च-आध्यात्मिक श्री अरविन्दों ने उच्च-मानसिक व महेश योगी ने भवातीत चैतन्य कहा है जो केवल उच्च ही नहीं बल्कि निम्न चैतन्य को सयुग्मित भी करता है वही भारतीयों का उद्देश्य है इसे परमार्थ चैतन्य कहा जाता है। यही ब्राह्माण चैतन्य या आत्म चैतन्य भी है। हिन्दु इसे आत्म-ज्ञान या आत्म साक्षात्कार कहते हैं। यह केवल मानसिक या भावनात्मक अनुभवों को पार करना ही नहीं बल्कि इससे दूर यह भावनात्मक व मानसिक व मन व शरीर का एकीकरण भी है। संस्कृत वाड्मय में उक्त योग की प्रमुख तीन विधाएं प्रतिपादित हैं।
·         1. ज्ञानयोग
·         2. भक्तियोग
·         3. कर्मयोग।
ज्ञानयोग का अन्वारव्यान विशेष रूप से उपनिषद्-ब्रह्मसूत्र-वेदान्त दर्शन में हुआ है। भक्तियोग का निरूपण विशेषतया इतिहास-पुराणों में तथा कर्मयोग का निरूपण योग दर्शन में हुआ है।

ज्ञानयोग

‘‘ऋते ज्ञानान्नमुक्तिः’’ इस महावाक्य के अनुसार तत्वज्ञान के बिना मुक्ति कदापि सम्भव नहीं तथा जीवात्मा को तत्वज्ञान सद्गुरू की कृपा से ही प्राप्त होता है तभी जीवात्मा मुक्त होती है। सद्गुरू से तत्वज्ञान की प्राप्ति तभी सम्भव होती है जब साधक के स्थूल शरीर, सूक्ष्म शरीर, कारण शरीर तथा महाकारण शरीर इन चारों शरीरों की तथा मन, चित्त, बुद्धि, अहंकार रूप अन्तःकरण चतुष्टय की पूर्णतया शुद्धि होती है। योगवासिष्ठ वेदान्तसिद्वन्तादर्श आदि ग्रन्थों के अनुसार शम-दम आदि सम्पन्न सद्गुरू के द्वारा उपदिष्ट ज्ञान की प्राप्ति के साधन के रूप में ज्ञान की सात भूमिकाएॅं 1- शुभेच्छा, 2- विचारणा, 3- तनुमानसा ये तीन जाग्रद भूमिकाएॅं हैं जिनमें जीवात्मा एवं परमात्मा (ब्रह्म) में पार्थक्य का भान होता है तथा इनसे तत्वज्ञान को प्राप्त करने की योयता प्राप्त होती है तथा आगे 4-सत्वापत्ति, 5- असंसक्ति, 6-पदार्थविभाविनी, 7- तुर्यगा। इनमें चौथी अवस्था स्वप्नावस्था पॉंचवी सुषुप्ति अवस्था छठी प्रगाढ़ सुषुप्ति अवस्था तथा सातवीं अवस्था में साधक निरन्तर ब्रह्म का ध्यान करता है। यह ब्रहमीभूत अवस्था होती है। उक्त अवस्थाओं को साधक सद्गुरू की कृपा से तत्वज्ञान प्राप्त कर ही पार कर पाता है। एवम् ‘‘ज्ञानयोग तथा सन्यासयोग ये सांख्य के नाम हैं। क्योंकि सम् = सम्यक् + ख्या = ख्याति- ज्ञान को सांख्य कहते हैं। आत्मा का अपने स्वरूप का ज्ञान सांख्य योग कहलाता है। अथवा प्रकृति - पुरूष का ज्ञान करके अपने को प्रकृति के बन्धन से मुक्त कर लेना ही सांख्य का प्रयोजन है।

भक्तियोग

परमेश्वर के गुणों में प्रीति, उसके गुणों का कीर्तन, स्तुति करना एवं अपने को सर्वथा उसके अधीन मानकर समस्त कर्म और उसका फल भगवान् को अर्पण कर देना, भगवान के प्रत्येक विधान में सन्तुष्ट रहना तथा निरन्तर उसके नाम का स्मरण करते रहना भक्तियोग है। भक्तियोग से अतिशीघ्र समाधि की प्राप्ति होती है। भक्ति योग का विस्तृत वर्णन नारदभक्ति सूत्र में किया गया है। भक्ति, ज्ञानयोग, कर्मयोग तथा अन्य योग से भी ऊॅंची है। भक्ति ईश्वर से कुछ मॉंगने के लिए नहीं की जाती, बल्कि वह स्वयं सब इच्छओं पर रोक लगाती है तथा भक्त वह होता है जो अपना सर्वस्व ईश्वर को अर्पण कर देता है। ‘‘ भक्ति ईश्वर के प्रति तीव्र, अनुराग और दिव्य प्रेम का स्वरूप है।

कर्मयोग

‘‘अन्तःकरण की शुद्धि के लिए निष्काम भाव से कर्म करना बहुत आवश्यक है।’’ योग के मार्ग में चलने वाले मन्नशील पुरूष के लिए निष्काम भाव से कर्म करना ही योग प्राप्ति का हेतु या साधन कहा है। संकल्प निष्ठा मे ज्ञान और योगनिष्ठा में निष्काम कर्म की प्रधानता है। ज्ञानयोग की साधना सीधी होने पर भी दुष्कर है। जिसे योग के बिना प्राप्त नहीं किया जा सकता। योग से युक्त होकर मुनिजन शीघ्र ही ब्रह्म को प्राप्त कर लेते हैं। अपने वर्ण, आश्रम, स्वभाव और परिस्थिति के अनुसार शास्त्रविहित कर्मों को फल की कामना और आसक्ति का त्याग करके कर्त्तव्य समझकर करना, प्रत्येक कर्म की सिद्धि- असिद्धि तथा उसके फल के समभाव रखना, इन्दियों के भोगों में आसक्त न होकर समस्त संकल्पों का परित्याग करके योग की साधना करना ही कर्मयोग है। अर्थात निष्काम भाव से कर्म करते हुए योगाभ्यास करना कर्मयोग कहलाता है। जैसे-यज्ञ के लिए कुशा की आवश्यकता होती है। इसके लाने के लिए ऐसे व्यक्ति को भेजा जाता है जो हाथों को आहत होने से बचाकर सावधानी से कुश का चयन करके ले आये। ऐसे व्यक्ति का नाम कुशल प्रसिद्व हुआ। बाद में किसी भी कार्य के कुशलता और सावधानी के साथ करने वाले व्यक्ति को भी कुशल कहा जाने लगो। कर्मों में कुशलता का यही अभिप्राय है कि कर्म तो किए जाएॅं, परन्तु उनके प्रति आसक्ति या फल की इच्छा का भाव कर्ता में न रहे। किसी भी कर्म को कर्त्तव्यभावना से किया जाना चाहिए। यज्ञ अर्थात् परोपकार के अतिरिक्त अन्य कर्म बन्धक का कारण बनता है। ‘‘निष्काम कर्म के द्वारा योगारूढ़ होकर पुनः सब संकल्पों का परित्याग करना ही कल्याण का हेतु है। योगदर्शन के अनुसार कर्मयोग के प्रमुख चार प्रकार हैं-
·         1- लययोग,
·         2- मन्त्रजपयोग,
·         3- हठयोग,
·         4-राजयोग।
ज्ञानयोग, भक्तियोग, कर्मयोग इन तीनों के सामन्जस्य से ही ‘‘सम्पूर्ण योग’’ की उपलब्धि एवं सिद्धि हो सकती है। , अन्यथा नहीं। पातन्जल योग दर्शन ‘‘सम्पूर्ण योग’’ है क्योंकि इसमें ज्ञान, भक्ति, कर्मयोग तीनों प्रकार आते हैं। पातन्जलि के अनुसार ज्ञान के उदय होने पर ही साधक पंच क्लेश - अविद्या, अस्मिता, राग, द्वेष, अभिनिवेश से मुक्त होता है। भक्ति योग के द्वारा ईश्वर प्राणिधान करते हुए ईश्वर की शरण में जाता है व चित्त की वृत्तियों पर अभ्यास-वैराग्य अर्थात कर्मयोग द्वारा निंयत्रण कर योग की उच्चतम अवस्था को प्राप्त करता हैं।

विचार -विमर्श

एक साहित्यिक लेख में ई0जे0 शावन (1957) ने एक ‘‘युग्मित समन्वय’’ का नमूना प्रस्तुत किया है जिसमें चारित्रिक विशेषताओं में ‘‘आत्म नियंत्रण, व्यक्तिगत दायित्व, सामाजिक दायित्व, राजनीतिक-सामाजिक रूचि और आदर्श बतायी गयी है। जो कि मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्तित्व के लिए आवश्यक है।’’ अपने सिद्वान्त में उन्होंने पूर्णतः कार्य सम्पादन करने वाले व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बताया है। सी0आर0 रोजर्स (1962) ने अनुभवों से अवगत होने व उनसे खुलेपन की सीमा को उल्लेखित किया है। मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति की विभिन्न चरित्रिक विशेषताओं का वर्णन करते हुए तथा आदर्श सिद्वान्त को प्रस्तुत करते हुए एस0जे0 कोर्चिन (1976) ने कहा है - कि ‘‘विकसित रूप से मानसिक स्वस्थ व्यक्ति विलक्षण और अच्छी प्रकार से युग्मित होते हैं। वे हीनता व आवश्यकता के बजाय प्रचुरता से प्रेरित होते हैं। वहॉं परव्यक्तिगत पहचान का शक्तिशाली बिन्दु होता है। वास्तविकता में स्वयं का सम्मान करना, अपने आप व दूसरों से अलगाव व संवेदनशीलता वह पारिस्थितिकीय सम्भावनाओं का स्वायत्त अभिकर्ता होता है। वह वातावरण के बल के उददेश्य व सामाजिक आज्ञाओं से दबने के बजाय उनका स्वयं ही मालिक होता है।’’ मानसिक आरोग्य के लिए धार्मिक साधना आवश्यक है। मानसिक रोगों से मुक्त यदि होना है तो एक ऐसा जीवन दर्शन बनाना पड़ेगा जिसमें आत्म ज्ञान अथवा सर्वोच्च मानव लक्ष्यों की प्राप्ति को जीवन का लक्ष्य माना गया हो। इस आदर्श के प्रकाश में ही अन्य प्रवृत्तियों को सन्तुष्ट किया जायेगा। सब कही एकात्मक भावना के बिना व्यक्तियों के परस्पर सम्बन्धों का कोई भी ठोस आधार नहीं हो सकता। इस एकात्म भावना के लिए साकार ईश्वर की मान्यता आवश्यकता नहीं है। इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति के अपने अनुभव में आने वाली अन्तर्रात्मा को ही ईश्वर माना जा सकता है। प्रत्येक व्यक्ति में अवस्थित एक आत्मा ही समान बनाता है, वही प्रत्येक व्यक्ति के सामाजिक जीवन का आधार है। वहीं आत्म केन्दि्रता से बाहर निकलता है। इस प्रकार भारतीय मनोवैज्ञानिक एकात्मवाद के आधार पर मनुष्य के व्यक्तिगत और सामाजिक विकास के द्वारा उसे मानसिक रूप से स्वस्थ बनाते हैं।

निष्कर्ष

स्वस्थ व्यक्तित्व पूर्णता स्वयं विक्ष्रान्तिपूर्ण तथा अन्य लोगों के द्वारा मूल्यांकित होता है। एक मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति असफल व निराश भी हो सकता है। वह तनावमय कष्ट भी झेल सकता है , इस समय वह मूर्खतापूर्ण व स्वयं से हारा हुआ भी महसूस कर सकता है लेकिन स्वस्थ व्यक्ति का आधार क्या है? वह है अपने भावों का संतुलन जैसे कि निराशा उसे सकारात्मक क्रियाकलाप से नही रोक सकती। विशेष भार उसके लिए सृजित नहीं होता तथा हीनता उसे दब्बू कष्ट झेलने वाला व्यक्ति नहीं बनाती। वह अपने सम्पूर्ण व्यक्तित्व की शक्ति से कठिनाइयों से उभरने का प्रयत्न करता है और एक परिपक्व, तेज तर्रार, अच्छा योग्य व वातावरण का भार झेलने वाला बनाता है। अतः मानसिक स्वास्थ्य एक आदर्श है। जिस व्यक्ति के उक्त गुण जितने अधिक पाये जाते हैं वह उस आदर्श के उतना ही निकट होता है। पाश्चात्य मनोविज्ञान में मानसिक तनावों से मुक्ति का कोई समुचित साधन परिलक्षित नहीं होता, जो उसके व्यक्तित्व में निहित निषेधात्मक परिवेशों को स्थायी निदान प्रस्तुत कर सके। पाश्चात्य अवधारणानुसार समाज में व्यक्ति के पारस्परिक समायोजन की गुणवत्तता को समाज की मान्यताओं के अनुसार परिष्कृत कर मानसिक आरोग्यता प्रदान करने का प्रयास करता है। लेकिन जीवनमुक्त समाधि की मनोशारीरिक अवस्था की तरफ नहीं ले जा पाता क्योंकि वह व्यक्ति की व्यवहार शैली को समझने उसे नियंत्रित करने तथा उससे अनुमान लगाने तक ही सीमित है तथा देशकाल परिस्थिति के अनुसार मानसिक आरोग्य की परिभाषा, अर्थ पाश्चात्य अवधारणानुसार बदल जाते हैं। महर्षि पतंजलि ने स्वस्थ मन की अवस्था प्राप्त करने के लिए योगदर्शन के अन्तर्गत अष्टांग योग बतलाकर मानसिक आरोग्यता की आदर्श स्थिति को समाधि के रूप में सूत्रबद्ध किया है जिससे पंच क्लेश नष्ट होते है इसलिए समाधि, मुक्ति, निर्वाण, आत्म साक्षात्कार, भगवद् प्राप्ति की अवस्था में व्यक्ति मानसिक रूप से आरोग्यता प्राप्त करता है।